गाजियाबाद पुलिस ने सुलझाई दलित विवेक की हत्या की गुत्थी

दो हफ्ते पहले विवेक नाम के एक दलित युवक की हत्या की घटना सामने आई थी। विवेक की ऑफिस से घर लौटते वक्त हत्या कर दी गई थी। गाजियाबाद पुलिस ने विवेक कुमार जाटव की हत्या की गुत्थी को सुलझाने का दावा किया है।  विवेक का शव 1 जून की दोपहर मटियाला गांव के खेत में पड़ा मिला था, यह स्थान उनके निवास स्थान कौशल्या गांव से लगभग 5 किलोमीटर की दूरी पर है।

 गाजियाबाद पुलिस ने ट्रैकर डॉग लीना की सहायता से इस कत्ल की गुत्थी को सुलझा दिया है, ट्रैकर डॉग की मदद से ही वे अपराधियों के घर पहुंचे और उन्हें गिरफ्तार किया।

 पुलिस की रिपोर्ट के अनुसार जब 31 मई को विवेक जाटव अपने ऑफिस से घर लौट रहे थे  तो रास्ते में उनकी बाइक एक कार से टकरा गई। उस कार में तीनों अपराधी सवार थे कार से टकराने पर विवेक की बाइक गिर गई और विवेक रोड पर गिर गया। विवेक ने अपने एक्सीडेंट की जानकारी अपने सहकर्मी जब्बार को दी, इसी दौरान गाड़ी से एक व्यक्ति बाहर निकला और विवेक का फोन लेकर भागने लगा। विवेक ने अपना फोन वापस लेने के लिए उसका पीछा किया, पीछा करते-करते वे एक सुनसान इलाके में पहुंच गए। जहां पर तीनों अपराधियों ने विवेक को पकड़ लिया, उसको मारा पीटा और फिर से उसका गला घोटने लगे। अपराधियों ने पूछताछ में बताया है कि जब वे विवेक को मार रहे थे तो विवेक लगातार उनसे अपने जीवन की भीख मांग रहा था और कह रह था कि मुझे जाने दो मेरी मां इंतजार कर रही होगी। परंतु तीनों अपराधियों को विवेक की प्रार्थना से कोई फर्क नहीं पड़ा और उन्होंने विवेक को मार दिया। वे विवेक को मारने के बाद उसके शव को जला देना चाहते थे पर वे ऐसा नहीं कर पाए और उसका शव फेंक कर वहां से भाग गए।

 

 

पुलिस ने तीनों अपराधियों को पकड़ लिया है जिनके नाम हैं – मोहम्मद मोहसिन, मोहम्मद आदिल और मोहम्मद सलमान। इन तीनों का पहले से ही अपराधिक रिकॉर्ड है और तीनों अपना जुर्म कबूल कर चुके हैं। गाजियाबाद के एसपी नीरज जदाऊं के अनुसार मोहम्मद मोहसिन के खिलाफ पहले से ही चोरी और पशुओं के साथ बर्बरता करने के 10 केस दर्ज हैं। 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *