भारत में अशांति फैलाने की कोशिश में हैं जैश-ए-मोहम्मद (JeM) और लश्कर-ए-तैयबा (LeT)

जैश-ए-मोहम्मद (जेएम) और लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) जैसे पाकिस्तान समर्थित आतंकी संगठनों ने अपने आतंकवादियों को विशेष दिशा-निर्देश जारी किए हैं कि कैसे कश्मीर घाटी में अशांति पैदा की जाए।

 

खुफिया सूचनाओं से पता चलता है कि मौलाना मसूद अजहर और हाफिज सईद के नेतृत्व वाली जैश-ए-मोहम्मद (जेएम) और लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) – दोनों पाकिस्तानी सेना और जासूसी एजेंसी इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) द्वारा समर्थित हैं – वे चाहते हैं कि उनके लोग संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) सत्र जो 17 सितंबर को शूरू होने वाला है से पहले जम्मू-कश्मीर में संगठित तरीके से उपद्रव करें।

खुफिया जानकारी में कहा गया है कि आतंकवादी गुर्गों से “विरोध प्रदर्शन और पथराव में भाग नहीं लेने के लिए कहा गया है, उन्हें निर्देश जारी किए गए हैं कि वे दूर से नज़र रखें और भारतीय सुरक्षा बलों पर हमला करने के अवसर की तलाश करें और उनकी हथियार छीनने की कोशिश करें । आतंकवादीयों को किसी एसी गतिविधि में शामिल न होने कि हिदायत दी गइ है जो उन्हें उजागर कर सके और पुलिस या लोगों के सामने उनके रहस्य को उजागर कर सके।

कल यह खबरें आयी हैं कि पाकिस्तान ने गुप्त रूप से आतंकवादी मसूद अजहर को पाकिस्तानी जेल से रिहा कर दिया है और वह सियालकोट-जम्मू-राजस्थान क्षेत्र में एक बड़ी कार्रवाई की योजना बना रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *