श्री राम स्तुति: अर्थ सहित

ऐसी मान्यता है कि भगवान श्रीराम का नाम लेने मात्र से ही जन्म-जन्मांतर के पाप धुल जाते हैं। अपने अराध्य भगवान श्रीराम की वंदना हेतु कई ऋषियों ने कई स्तुतियां, मंत्र, आरती आदि की रचना की है। एक ऐसी ही स्तुति का वर्णन गोस्वामी श्री तुलसीदासजी द्वारा रचित रामचरितमानस के अरण्यकाण्ड में है। श्री राम नवमी, विजय दशमी, सुंदरकांड, रामचरितमानस कथा, श्री हनुमान जन्मोत्सव और अखंड रामायण के पाठ में प्रमुखता से इस स्तुति का वाचन किया जाता है।  यह राम स्तुति हम अर्थ सहित यहां प्रस्तुत कर रहें हैंः
श्रीरामचंद्र कृपालु भजु मन हरण भव भय दारुणं ।।
नवकंज-लोचन, कंज-मुख, कर-कंज पद कंजारुणं ।।१।।
अर्थ:- हे मन ! कृपालु (कृपा करनेवाले, दया करनेवाले) श्रीरामचंद्रजी का भजन कर, वे संसार के जन्म-मरण रूप दारुण (कठोर, भीषण) भय को दूर करने वाले है । उनके नेत्र नव-विकसित कमल के समान है । मुख-हाथ और चरण भी लालकमल के सदृश हैं ॥१॥
कंदर्प अगणित अमित छवि नव नील नीरद सुन्दरम । 
पट पीत मानहु तड़ित रूचि-शुची, नौमी जनक सुतावरं ॥२॥
अर्थ:- उनके सौंदर्य की छ्टा अगणित (असंख्य, अनगिनत) कामदेवो से बढ़कर है । उनके शरीर का नवीन नील-सजल मेघ के जैसा सुंदर वर्ण है । पीताम्बर मेघरूप शरीर मानो बिजली के समान चमक रहा है । ऐसे पावनरूप जानकीपति श्रीरामजी को मै नमस्कार करता हूँ ॥२॥
भजु दीनबंधु दिनेश दानव दैत्य वंश निकन्दनं । 
रघुनंद आनंद कंद कोशल चन्द्र दशरथ नंदनम ॥३॥
अर्थ:- हे मन ! दीनों के बंधू, सुर्य के समान तेजस्वी, दानव और दैत्यो के वंश का समूल नाश करने वाले, आनन्दकंद, कोशल-देशरूपी आकाश मे निर्मल चंद्र्मा के समान, दशरथनंदन श्रीराम का भजन कर ॥३॥
सिर मुकुट कुंडल तिलक चारू उदारु अंग विभुषणं । 
आजानुभुज शर चाप-धर, संग्राम-जित खरदूषणं ॥४॥
अर्थ:- जिनके मस्तक पर रत्नजडित मुकुट, कानों में कुण्डल, भाल पर तिलक और प्रत्येक अंग मे सुंदर आभूषण सुशोभित हो रहे है । जिनकी भुजाएँ घुटनों तक लम्बी है । जो धनुष-बाण लिये हुए है, जिन्होने संग्राम में खर-दूषण को जीत लिया है ॥४॥
इति वदति तुलसीदास, शंकर शेष मुनि-मन-रंजनं । 
मम ह्रदय कंज निवास कुरु, कामादि खल-दल गंजनं ॥५॥
अर्थ:- तुलसीदास प्रार्थना करते हैं कि जो शिव, शेषजी और मुनियों के मन को प्रसन्न करने वाले और काम, क्रोध, लोभादि शत्रुओं का नाश करने वाले हैं ।  वे श्रीरघुनाथजी मेरे ह्रदय कमल में सदा निवास करे ॥५॥
मनु जाहि राचेउ मिलिहि सो बरु सहज सुंदर सावरो । 
करुना निधान सुजान सीलु सनेहु जानत रावरो ॥६॥
अर्थ:- जिसमें तुम्हारा मन अनुरक्त हो गया है, वही स्वभाव से ही सुंदर साँवला वर (श्रीरामचंद्रजी) तुमको मिलेंगे । वह करुणा निधान (दया का खजाना) और सुजान (सर्वग्य, सब जाननेवाला) है, शीलवान है । तुम्हारे स्नेह को जानता है ॥६॥
एही भांति गौरी असीस सुनी सिय सहित हिय हरषीं अली । 
तुलसी भावानिः पूजी पुनि-पुनि मुदित मन मंदिर चली ॥७॥
अर्थ:- इस प्रकार श्रीगौरीजी का आशीर्वाद सुनकर जानकीजी समेत सभी सखियाँ ह्रदय मे हर्षित हुई । तुलसीदासजी कहते हैं- भवानीजी को बार-बार पूजकर सीताजी प्रसन्न मन से राजमहल को लौट चली ॥७॥
जानी गौरी अनुकूल, सिय हिय हरषु न जाइ कहि । 
मंजुल मंगल मूल बाम अंग फरकन लगे ॥८॥
अर्थ:- गौरीजी को अनुकूल जानकर सीताजी के ह्रदय में जो हर्ष हुआ वह कहा नही जा सकता । सुंदर मंगलो के मूल उनके बाये अंग फडकने लगे ॥८॥

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *