उत्तर प्रदेश में छापेमारी के दौरान मदरसों में मिले हथियार

पिछले बुधवार को उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले के एक मदरसे पर छापा मारने और हथियार बरामद करने के बाद 6 लोगों को गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने गुप्त सूचना के बाद बुधवार को मदरसा दारुल कुरान हमीदिया में छापेमारी की और मौके से पांच अवैध हथियार जिनमें .32 बोर की एक पिस्तौल दो मैग्जीन और 8 कारतूसों के साथ, 16 कारतूस के साथ .32 बोर का एक तमंचा,  .315 बोर के 3 तमंचे 16 कारतूस और एक कार के साथ बरामद किए। और ज़फर इस्लाम, नूर अली, मोहम्मद साबिर, अज़ीज़ुर्रहमान और फहीम सहित छह लोगों को गिरफ्तार किया गया है। फिलहाल आगे की जांच जारी है।

पुलिस ने कहा कि एक आरोपी बिहार का रहने वाला है और मदरसा शिक्षक होने का दावा करता है। पुलिस के अनुसार, उन्हें जानकारी मिली कि कुछ असामाजिक तत्व नियमित रूप से मदरसे का दौरा करते थे। हथियारों की तस्करी करने वाली कार भी मदरसे से बरामद की गई थी, कार पर शिवसेना लिखा हुआ था।

पुलिस के अनुसार, मदरसा एक ’हिकमत’ (एक ऐसी जगह जहां एक हकीम दवा लिखता है) के रूप में भी संचालित होता है। अवैध हथियार तस्कर मरीजों के बहाने आते। किसी को भी संदेह नहीं था कि वास्तव में ‘मरीज’ हथियार तस्कर थे।
पुलिस को शक है कि बिहार का रहने वाला साबिर मुख्य सप्लायर था। तस्करी के लिए इस्तेमाल की गई उनकी कार पर उन्होनें एक ‘शिवसेना’ का स्टिकर लगा रखा था, ताकि किसी को उन पर शक न हो।
दारुल हमीदिया मदरसा कुछ सालों से चालू है। वर्तमान में लगभग 25 छात्र यहां अध्ययन करते हैं।
विश्व हिंदू परिषद से जुड़े एक संगठन हिंदू जागरण मंच (HJM) ने अलीगढ़ के सभी मदरसों में गहन निरीक्षण की मांग की है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को दिए ज्ञापन में, HJM के पदाधिकारियों ने कहा है कि यदि मदरसों के प्रबंधनकर्ताओं में से कोई भी ऐसी अवैध गतिविधियों में लिप्त पाया जाता है तो उन पर देश द्रोह का मुकदमा दर्ज कर, उनका पंजीकरण रद्द किया जाना चाहिए ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *