AAP के नेतृत्व वाले दिल्ली वक्फ बोर्ड ने किया तबरेज की पत्नी को मुआवजे और नौकरी का वादा, जबकि दिल्ली के अंकित सक्सेना के पिता को मुआवजे का इंतजार

अंकित सक्सेना के माता-पिता से किए गए वादों को पूरा करने में विफल रहने के बाद, अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली दिल्ली AAP सरकार ने अब झारखंड में भीड़ द्वारा कथित तौर पर मारे गए तबरेज अंसारी की पत्नी को रोजगार का वादा करके तुष्टिकरण की राजनीति का सहारा लिया है। दिल्ली वक्फ बोर्ड का पैनल, जिसकी अध्यक्षता AAP विधायक अमानतुल्ला खान ने की है, ने कहा कि उन्होने झारखंड में भीड़ द्वारा कथित तौर पर मारे गए 24 वर्षीय तबरेज अंसारी की पत्नी को 5 लाख रुपये और सरकारी नौकरी देने का फैसला किया है। वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष ने यह भी कहा कि वे अंसारी की पत्नी को कानूनी सहायता प्राप्त करने में मदद करेंगे।

 

चौंकाने वाली बात यह है कि दिल्ली वक़्फ़ बोर्ड का यह फ़ैसला ऐसे समय में आया है, जब दिल्ली सरकार दिल्ली के एक फ़ोटोग्राफ़र अंकित सक्सेना के माता-पिता को दिए गए मुआवज़े को देने में असफलता का सामना कर रही है, जो पिछले साल फरवरी में मुसलमानो द्बारा बेरहमी से मार डाला गया था। उनकी मुस्लिम प्रेमिका के परिवार ने अंतर-धार्मिक प्रेम संबंध को स्वीकार नहीं किया।

हाल ही में, अंकित के पिता यशपाल सक्सेना ने वादों को पूरा न करने के लिए दिल्ली सरकार पर अपनी निराशा व्यक्त की थी। यशपाल सक्सेना ने कहा था कि उन्हें दिल्ली सरकार से कोई भी वाजिब मुआवजा नहीं मिला है। यशपाल सक्सेना ने कहा था कि दिल्ली के सीएम ने उन्हें निराश किया है, उन्होंने सोचा था कि दो समुदायों के बीच दरार से की वजह से उन्हें जल्दी मुआवजा दे दिया जाएगा । यशपाल सक्सेना ने अरविंद केजरीवाल सरकार द्वारा धोखा दिए जाने के बाद कहा था कि कानूनी और वित्तीय सहायता प्रदान करने के अपने वादे पर AAP सरकार के चूकने के बाद वह टूट गया था।
हाल ही में, दिल्ली में मुसलमानों ने ध्रुव त्यागी को बेरहमी से मार डाला और  दिल्ली के ख्याला में मोहम्मद आजाद नाम के व्यक्ति ने अपनेे पड़ोस में रहने वाली सुनीता नाम की महिला और उसके पति – वीरू और बेटे – आकाश को भी चाकू से गोद – गोदकर मार डाला था। अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली दिल्ली AAP सरकार ने अब तक इनके परिवारों को एक रूपये की भी सहायता नही की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *