भारत की जीत पर जश्न मनाने वाले दलित को गांव के मुसलमानों ने जिंदा जलाया

अक्सर हम जय भीम जय मीम के नारे सुनते हैं और मुसलमान बहुत ही बढ़-चढ़कर मुस्लिम दलित एकता की बात करते हैं, परंतु कल ही यह दुखद समाचार यूपी के प्रतापगढ़ जिले से आया है जहां पर एक दलित को वहां के मुसलमानों ने केवल इसलिए जिंदा जला दिया क्योंकि वह क्रिकेट विश्व कप में भारत की पाकिस्तान पर जीत का जश्न मना रहा था।

यूपी के प्रतापगढ़ के रामपुर बेला गांव में रहने वाले अनुसूचित जाति के दलित विनय प्रकाश रविवार को भारत के क्रिकेट विश्व कप में पाकिस्तान को हराने पर बेहद खुश थे और नाच नाच कर जश्न मना रहे थे। इस पर वहां के कुछ मुसलमानों को गुस्सा आ गया और उनसे विनय प्रकाश की झड़प हो गई। सोमवार की सुबह गांव वालों ने देखा तो पाया कि विनय प्रकाश की झोपड़ी जला दी गई है और उन को जलाकर मार दिया गया है

 

 

ये कैसे मुसलमान हैं जो भारत में रहते हैं भारत का खाते हैं परंतु पाकिस्तान की जीत की दुआ मांगते हैं? और भारत के जीत का जश्न मनाने की वजह से एक दलित को जिंदा जलाकर मार देते हैं। ऐसे मुसलमानों को पाकिस्तान जाने के लिए नहीं कहा जाएगा तो क्या कहा जाएगा?

ऐसे मुसलमानों को तो वास्तव में पाकिस्तान ही चले जाना चाहिए, यदि उनको पाकिस्तान की हार का इतना दुख होता है ।और वे भारत की जीत पर इतना दुखी होते हैं तो निश्चित तौर पर वे कतई भारतीय नहीं हैं, बल्कि पाकिस्तानी ही हैं और उनका पाकिस्तान चले जाना ही दोनों देशों के लिए बेहतर होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *