1984 के सिख विरोधी दंगो मे सज्जन कुमार को आजीवन कारावास की सजा

आज दिल्ली हाईकोर्ट ने कांग्रेस नेता और पूर्व सांसद सज्जन कुमार को 1984 के दंगो में 5 सिखों की हत्या के मामले में आजीवन कारावास की सजा सुना दी है । सज्जन कुमार को दंगा भड़काने और अपराधिक साजिस करने का दोषी पाया गया है और उन्हे 31 दिसम्बर तक सरेन्डर करने का आदेश दिया है।

1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद देश भर में सिख विरोधी दंगे फैले थे। जिसमें दिल्ली कैंट के राजनगर में 5 सिखों – केहर सिंह, गुरप्रीत सिंह, रघुविंदर सिंह, नरेंद्र पाल सिंह और कुलदीप सिंह की हत्या हुई थी। इस केस मे केहर सिंह की विधवा और गुरप्रीत सिंह की मां जगदीश कौर ने शिकायत दर्ज कराई थी और न्यायमूर्ति जी टी नानावटी आयोग की सिफारिश के आधार पर सीबीआई ने सभी छह आरोपियों के खिलाफ 2005 में एफ आई आर दर्ज की थी और आरोप पत्र 2010 में दाखिल किया गया था।

 

पटियाला हाउस कोर्ट में पिछले महीने ही इस मामले के गवाह चाम कौर ने सज्जन सिंह को पहचान लिया था। दिल्ली हाईकोर्ट ने सज्जन कुमार को 31 दिसम्बर तक सरेन्डर करने का आदेश दिया है।

यह बड़ी ही विडंबना है की एक और तो दिल्ली की हाई कोर्ट ने 1984 के दंगों के एक आरोपी को सजा सुनाई है और दूसरी और कांग्रेस ने 1984 के एक और आरोपी को मुख्यमंत्री के पद से पुरस्कृत किया है। कमलनाथ को जिनपर 1984 के दंगों में शामिल होने के आरोप हैं, मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री नियुक्त किया।

2 thoughts on “1984 के सिख विरोधी दंगो मे सज्जन कुमार को आजीवन कारावास की सजा

  1. gamefly free trial says:

    I’m not sure why but this weblog is loading incredibly slow for me.

    Is anyone else having this problem or is it a problem on my end?

    I’ll check back later and see if the problem still exists.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *