लूट रहे हैं प्राइवेट अस्पताल….


मरीजों की जेब काट रहे हैं देश के प्राइवेट अस्पताल।

अभी हाल में ही नेशनल फार्मास्यूटिकल प्राइसिंग अथॉरिटी (NPPA) के एक अध्ययन से यह सामने आया है कि किस प्रकार प्राइवेट अस्पताल मरीजों को लूट रहे हैं। जो दवाएं मरीजों को अस्पताल में दी जाती हैं या जिन्हें मरीजों के परिजन अस्पताल की दुकानों से खरीदते हैं, उन पर तथा अन्य रोजमर्रा के इलाज में काम आने वाले सामान और डिवाइसेज पर प्राइवेट अस्पताल 1700 प्रतिशत मुनाफा कमाते हैं।

इस अवैध मुनाफाखोरी में प्राइवेट अस्पतालों और दवा कंपनियों की पूरी मिलीभगत है। अस्पताल कंपनियों से दवाओं और कंज्यूमेबल्स पर ज्यादा MRP दर्ज करवाते हैं जिससे फायदा सीधे तौर पर अस्पतालों को होता है।

जो दवाइयां प्राइस कंट्रोल के दायरे में आती हैं, यानी जिनकी कीमत सरकार तय करती है और उन्हें उस तय कीमत से ज्यादा कीमत पर बेचा ही नहीं जा सकता, उन्हें भी प्राइवेट अस्पताल मरीजों को मन माने दामों पर बेचते हैं।

अस्पताल में होने वाले डायग्नोस्टिक्स का खर्च भी जोड़ लें तो इस धांधलेबाजी से मरीजों का बिल करीब 50% तक बढ़ जाता है।

सरकार को इसका संज्ञान लेते हुए जल्द ही उचित कदम उठाने चाहिए ताकि मरीजों के साथ हो रही इस धांधलेबाजी को बंद किया जा सके।

3 thoughts on “लूट रहे हैं प्राइवेट अस्पताल….

  1. gamefly says:

    Ahaa, its pleasant dialogue concerning this paragraph at this place at this webpage,
    I have read all that, so now me also commenting here.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *