श्रम मंत्रालय का प्रस्ताव निजी कंपनियां पक्की नौकरी दें, PF सरकार भरेगी !


श्रम मंत्रालय की नई योजना यदि निजी कंपनियां पक्की नौकरी दें, तो PF सरकार भरेगी।

 

सरकार में आने से पहले BJP का यह एजेंडा था कि वह हर साल दो करोड़ नई नौकरियां युवा बेरोजगारों को उपलब्ध कराऐगें। यह तीसरा साल चल रहा है सरकार का पर इस मोर्चे पर सरकार ने कुछ खास सफलता अर्जित नहीं की है।

अब जॉब्स बढ़ाने के लिए सरकार कई अहम फैसले लेने जा रही है। श्रम मंत्रालय ने कई निजी कंपनियों से इस बारे में बातचीत की तो उन्होंने पाया कि निजी कंपनियां पक्की नौकरी इसलिए नहीं देती हैं क्योंकि पक्की नौकरियां देने से उन पर वित्तीय बोझ बढ़ जाता है इसलिए वे अस्थाई तौर पर युवाओं की भर्ती कर रहे हैं।

लेबर ब्यूरो के आंकड़ों के अनुसार पिछले साल में मैनुफैक्चरिंग, ट्रांसपोर्ट, हेल्थ और एजुकेशन समेत 8 सेक्टरों में सिर्फ 2.30 लाख नौकरियां ही उपलब्ध थी, जबकि देश में हर साल 1.80 करोड़ नए युवा बेरोजगारों की सूची में जुड़ जाते हैं।

गत वर्ष बेरोजगारों की संख्या 1.77 करोड़ थी और अनुमान है कि यह संख्या इस बार इस साल के अंत तक 1.78 करोड़ तक जा सकती है। मौजूदा ट्रेन्ड के अनुसार कंपनियां भर्ती 3 महीने 6 महीने का साल भर के लिए करती हैं और बाद में नए लोगों को नौकरी पर रख लेती हैं। इस प्रकार उनको सैलरी बढ़ाने की भी जरूरत नहीं पड़ती। इन सब तथ्यों को ध्यान मे रखते हुए वित्त मंत्रालय को यह सिफारिश प्राप्त हुई है, श्रम मंत्रालय के द्वारा, की ज्यादा स्थाई नौकरी देने वाली कंपनियों को टैक्स में राहत के साथ-साथ PF कंट्रीब्यूशन में भी राहत दी जाए। इस सुझाव को सैद्धांतिक तौर पर मंजूर कर लिया गया है।

अनुमान है की अक्टूबर के आरंभ में सुस्त इकॉनॉमी में गति लाने के लिए सरकार निजी कंपनियों को पक्की नौकरियां देने के एवज में टैक्स में राहत और PF कंट्रीब्यूशन में राहत देने की घोषणा कर सकती है।

3 thoughts on “श्रम मंत्रालय का प्रस्ताव निजी कंपनियां पक्की नौकरी दें, PF सरकार भरेगी !

  1. gamefly says:

    I am really happy to glance at this web site posts
    which consists of lots of helpful data, thanks for providing these kinds of
    information.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *